दुनिया

वियतनाम में खुला दुनिया का सबसे लंबा कांच का पुल, जिसकी लंबाई 632 मीटर है

खबर शेयर करें

वियतनाम में एक जंगल में डेढ़ सौ मीटर यानी 190 फीट ऊंचा पुल बना है इस पुल की लंबाई 632 मीटर है. वियतनाम सरकार ने इस पुल पर जाने के लिए नागरिकों को छूट दे दी है. वियतनाम के ‘सोन ला’ प्रांत में स्थित पुल का फर्श टेंपर्ड ग्लास से बनाया गया. 

कांच के बना यह पुल, एक बार में 500 लोगों का भार सह सकती है

सूत्रों से जानकारी मिली है कि एक बार में 400 से लेकर 500 लोगों का भार, यह पुल झेल सकती है. पुल के आधार में लगभग 40 मिलीमीटर मोटे टेम्पर्ड ग्लास की तीन परतें हैं और इस पुल को फ्रांस की कंपनी सेंट-गोबेन द्वारा निर्मित किया गया है. ग्लास के बने इस पुल से, शानदार नजारा पर्यटकों का मन मोह लेगा. इस पुल की खास बात यह है कि यह पुल जंगल में बनाया गया है, जहां सिर्फ और सिर्फ हरियाली देखने को मिलेगी.
आपको जानकारी के लिए बता दूं कि वियतनाम में बने इस पुल को दुनिया का सबसे लंबा पुल नही माना जायेगा, जब तक इसकी अधिकारियों के द्वारा जांच नहीं हो जाती तब तक इसे विश्व का लंबा पुल नही माना जायेगा. सूत्रों के मुताबिक, इस पुल को अगले माह गिनीज बुक, इस बात की पुष्टि करेगा की ये दुनिया का सबसे लंबा कांच का पुल है या नही. जैसे ही इस बात का खुलासा होता है तो सबसे पहले हिंदी न्यूज वेबसाइट उज्जवल खबर ही कवर करेगा.

चीन के हुनान प्रांत में बना दुनिया का सबसे लंबा पुल

वर्तमान समय में चीन के हुनान प्रांत में बना यह पुल, दुनिया का सबसे लंबा पुल है. वास्तुकार हैम डोटन द्वारा डिजाइन किया गया 430 मीटर लंबा यह पुल कांच से बना दुनिया का सबसे लंबा और ऊंचा पुल है. यह पुल पैदल लोगों के लिए है. ‘झांग्जीयाजी ग्रैंड कैन्यन ग्लास ब्रिज’ नामक इस पुल के परीक्षण के दौरान इस पर एक बार में 800 से ज्यादा लोगों को नहीं चढ़ने दिया गया. हर दिन 8,000 लोगों को इस पर चलने का मौका मिला. एक दिन में 10 हजार लोगों का भार सह सकने वाले कांच के इस पुल का परीक्षण अभियान इस साल अगस्त के अंत में चलाया गया था, लेकिन भारी मांग के चलते इसे 12 दिन बाद बंद कर दिया गया था. फिर से इस पुल को पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है.
लेटेस्ट न्यूज़ के लिए इस वेबसाइट को सब्सक्राइब करें ताकि आने वाली नई खबर की नोटिफिकेशन सबसे पहले आप तक पहुंचे.

खबर शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *