अगली स्लाइड पढ़े ➡️

भारत में चीता कैसे गायब हो गए ?

इस कारण से ऐसा हुआ वरना चीता विलुप्त नही होते

Image source: instagram

एक समय था, जब भारत में चीतों की कमी नहीं थी.

Image source: instagram

परंतु राजा महाराजा ने इनका शिकार करना शुरू कर दिया.

Image source: instagram

जिस कारण इनकी आबादी धीरे-धीरे घटती गई.

Image source: instagram

16 वीं सदी में भारत में चीते लगभग 10,000 के आसपास थे.

Image source: instagram

यह वो दौर था, जब सम्राट अकबर ने भारत की जमीन पर कब्जा किया था.

Image source: instagram

उसके बाद 20वीं सदी में ब्रिटिश आ गए और जानवरों का आयात करना शुरू कर दिया.

Image source: instagram

कहा जाता है कि गांव में भी चीते आ जाते थे, जिस कारण गांव वाले डर की वजह से उसे मार देते थे.

Image source: instagram

भारत में आखिरी बार चीता को वर्ष 1948 में देखा गया था.

Image source: instagram

परंतु महाराजा रामानुज प्रताप सिंह देव ने 3 चीतों का शिकार कर लिया.

Image source: instagram

जिसके बाद वर्ष 1952 में भारत में चीतों की विलुप्त होने की घोषणा की गई.

Image source: instagram

हालांकि, इंदिरा गांधी की सरकार ने 1970 के दशक में ईरान से चीता को लाने की कोशिश की.

Image source: instagram

परंतु वो चीतों को लाने में असफल रही.

Image source: instagram

17 सितंबर 2022 को प्रधानमंत्री मोदी ने नामीबिया से 8 चीतों को भारत लाया.

Image source: instagram

उनमें 3 नर व 5 मादा थे. अब कुल 8 चीते हो गए भारत में.

नामीबिया से भारत आए 8 चीतों के नाम जानें. यह जानकारी और कहीं नहीं मिलेगी. नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें.

ऐसी ही जानकारी के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को join करें.

Join telegram