IAS और IPS में से किसके पास होती है सबसे ज्यादा पावर

अगली स्लाइड पढ़े ➡️

यूपीएससी में टॉप रैंक वाले एक आईएएस बनते हैं कभी कभार निचले रैंक वाले भी आईएएस बन जाते हैं.

हालांकि, जरूरी नहीं की टॉप रैंक वाले आईएएस ही बनते हैं. अगर टॉप रैंकर ने आईपीएस या आईएफएस प्रिफरेंस लिया हो तो आईएएस नही बन पायेंगे.

एक आईएएस के पास जिले के सभी विभाग की जिम्मेदारी होती है, जबकि एक IPS के पास केवल अपने विभाग की जिम्मेदारी होती है.

शहर में curfew, धारा 144 इत्यादि Law and Order से जुड़े सभी Decision जिलाधिकारी ही लेता है.

यहीं नहीं, भीड़ पर कार्रवाई करने या फायरिंग जैसे आर्डर भी जिलाधिकारी ही दे सकता है.

पुलिस ऑफिसर के तबादले के लिए, DM के अप्रूवल की जरूरत है.

IAS अधिकारियों को कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग व कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन मंत्रालय नियंत्रित करती है.

IPS अधिकारियों को केंद्रीय गृह मंत्रालय नियंत्रित करती है.

एक आईएएस की सैलरी आईपीएस से अधिक होती है.

कुल मिलाकर एक आईएएस अधिकारी के पास सबसे ज्यादा शक्ति होती है.

इसी तरह की जानकारी के लिए टेलीग्राम चैनल को join करें. नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.

आपने यह खबर पढ़ी भारत के नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट पर

Click Here