प्रेमानंद जी ने बताया– ब्रह्मचर्य के दौरान क्या खाना चाहिए?

अगली स्लाइड पढ़े ➡️

प्रेमानंद जी बताते हैं कि मनुष्य को सात्विक भोजन करना चाहिए.

जैसे गाय का दूध, गेहूं की रोटी, थोड़ा सा गाय का घी, थोड़ा सा मक्खन.

इसके अलावा मूंग की दाल, उबले आलू, केले, ताजा दही, चावल, दाल, चीनी इत्यादि.

किसी मनुष्य को मांसाहार भोजन नहीं करना चाहिए.

जो लोग मछली खाते हैं, मांस खाते हैं उनका संग ना करें.

लहसुन, प्याज, बासी खट्टे दही, बासी भोजन, तीखा पदार्थ, भुने हुए सुख पदार्थ और खट्टे पदार्थ के सेवन से

ब्रह्मचर्य नष्ट होता है.